The story and the report/कथा आणि अहवाल/कहानी और रिपोर्ट

Original thought: English

The story and the report

The report

When WAF team, that is, Okazusan and Akkosan visited Matho Village, Ladakh in 2022, a lot had changed. Though the teachers there were teaching in the rooms which had paintings from the Earth Art Project 2016, they did not know anything about it. Some of the students had participated in the project and enjoyed the pictorial atmosphere.

In the meeting the Japanese team shared how a women with seven siblings – Padma – had inspired them with her simple cooking (momos and butter toast) and her participation in sustainable initiatives like Organic Ladakh. Being a small community the a single person ended up shouldering many roles which was evident from the relations the team mentioned between all of them. The community ran “Jal Jeevan Mission” to ensure water supply throughout the year. As groundwater becomes the primary water source, and ice stupas come in handy during the dry summer months. The primary water source, the groundwater, makes the colour of water green in Ladakh’s culture.  

The Japanese team also talked about Studetnt’s educational and cultural movement of Ladakh – SECMOL and their initiative to use solar power and spread awareness about the same. As Wall Art Project as an NPO is all about sustainable eco-friendly living solutions, they discussed the engineering behind Two-storied traditional compost toilets in Ladakh.

When Naomi sensei talked about understanding of current educational situation in Lakakh, especially after articles 370 and 35A being abolished, a lot of the things have changed and would keep changing. She also mentioned that private schools were following the central curriculum from before. The adjustment of students to the so-called new syllabus and lack of Ladakhi remains to be seen.

Once Ladakh changed from state to union territory – of course, positive and negative – provisions came to Ladakh. The rampant corruption and bureaucracy came as a part of those provisions.

In Puga, geothermal energy is being sold as an alternative energy; however, the sustainability of such developments remains as questionable as ever.

A few years ago, a week would be needed for the supplies to reach the villages situated at higher altitudes. The time required now is much lesser, but the community strength is also thinning.

Further, the tourist waste problem in Ladakh like Rohtang pass was discussed. Burning of waste is also not a suitable option. Sometimes, even if people understand sustainability, there is no option. Responsible tourism could be a solution for the problems arising through tourism.

India as a country would always look at Ladakh as a strategic land adjacent to China and Pakistan. Unfortunately, the region would bear the brunt of its strategic geopolitical position among these three countries, who have currently decided to fight like little kids.

All in all, sitting in a town of Chiplun, merely six hours from Mumbai, I could understand the plight of a Ladakhi is now completely similar to all of us living in the towns or rural parts of this country. We have amazing cultures, traditions, communities, resources, and so on. We literally have urbanization and globalization attacking all that I have listed earlier. So, it’s a strange battle of balance between the two! All of us are struggling, but we are used to it.

I believe we owe it to ourselves to help Ladakh and Jammu and Kashmir as they are comparatively new at this. The least we can do is send positive thoughts!!! It’s free!!!

——

मूळ विचार: इंग्रजी

कथा आणि अहवाल

अहवाल

2022 मध्ये जेव्हा WAF टीमने, म्हणजेच ओकाझुसान आणि आक्कोसान यांनी लडाखच्या माथो गावाला भेट दिली तेव्हा बरेच काही बदलले होते. तेथील शिक्षक ज्या खोल्यांमध्ये अर्थ आर्ट प्रोजेक्ट 2016 मधील पेंटिंग्ज आहेत तेथे शिकवत असले तरी त्यांना याबाबत काहीच माहिती नव्हती. काही विद्यार्थ्यांनी या प्रकल्पात सहभाग घेऊन चित्रमय वातावरणाचा आनंद लुटला होता आणि अजूनही लुटत होते.

मीटिंगमध्ये जपानी टीमने सांगितले की सात भावंडांसह असलेल्या एका महिलेने – पद्माने – तिच्या साध्या स्वयंपाकाने (मोमो आणि बटर टोस्ट) आणि ऑरगॅनिक लडाख सारख्या शाश्वत उपक्रमांमध्ये सहभाग घेऊन त्यांना कसे प्रेरित केले. एक लहान समुदाय असल्याने एक व्यक्ती अनेक भूमिका पार पाडत असे, जे त्या सर्वांमधील नमूद केलेल्या वेगवेगळ्या संबंधांवरून स्पष्ट होते. वर्षभर पाणीपुरवठा सुनिश्चित करण्यासाठी त्यांनी “जल जीवन मिशन” राबवले. भूजल हा प्राथमिक जलस्रोत असे आणि कोरड्या उन्हाळ्यात बर्फाचे स्तूप उपयोगी पडतात. प्राथमिक जलस्रोत भूजल असल्याने लडाखच्या संस्कृतीत पाण्याचा रंग हिरवा होतो.

जपानी टीमने लडाख – SECMOL च्या विद्यार्थ्यांच्या शैक्षणिक आणि सांस्कृतिक चळवळीबद्दल आणि सौर उर्जेचा वापर करण्याच्या आणि त्याबद्दल जागरूकता पसरवण्याच्या त्यांच्या पुढाकाराबद्दल देखील सांगितले. NPO म्हणून वॉल आर्ट प्रोजेक्ट हा सर्व काही शाश्वत, पर्यावरणपूरक राहणीमान उपायांबद्दल असल्याने त्यांनी लडाखमधील दुमजली पारंपारिक कंपोस्ट शौचालयामागील अभियांत्रिकीबद्दलदेखील चर्चा केली.

जेव्हा नाओमीजी लडाखमधील सद्य शैक्षणिक परिस्थिती समजून घेण्याबद्दल बोलत होत्या, त्या म्हणाल्या की विशेषत: कलम 370 आणि 35A रद्द केल्यानंतर बर्‍याच गोष्टी बदलल्या आहेत आणि बदलत राहतील. खासगी शाळा पूर्वीपासून केंद्रीय अभ्यासक्रमाचे पालन करत असल्याचेही त्यांनी नमूद केले. तथाकथित नवीन अभ्यासक्रमात विद्यार्थ्यांचे समायोजन आणि लडाखीचा अभाव ह्याचे परिणाम पाहणे अजून बाकी आहे.

लडाख केंद्रशासित प्रदेश झाल्यानंतर अर्थातच, सकारात्मक आणि नकारात्मक तरतुदी लडाखमध्ये आल्या. त्या तरतुदींचा एक भाग म्हणून सर्रास भ्रष्टाचार आणि नोकरशाही हीदेखील आलीच.

पुगामध्ये, भूऔष्णिक ऊर्जा पर्यायी ऊर्जा म्हणून विकली जात आहे; तथापि, अशा विकासाची शाश्वतता नेहमीप्रमाणेच संशयास्पद आहे.

काही वर्षांपूर्वी, उंचीवर वसलेल्या खेड्यांपर्यंत साहित्य पोहोचण्यासाठी एक आठवडा लागायचा. आता लागणारा वेळ खूपच कमी आहे, पण समाजाची ताकदही कमी होत आहे.

पुढे, रोहतांग पाससारख्या लडाखमधील पर्यटकांच्या कचरा समस्येवर चर्चा झाली. कचरा जाळणे हा देखील योग्य पर्याय नाही. कधी कधी लोकांना संधारणाचा अर्थ समजला तरी पर्याय नसतो. पर्यटनाच्या माध्यमातून निर्माण होणाऱ्या समस्यांवर जबाबदार पर्यटन हा उपाय असू शकतो.

एक देश म्हणून भारत नेहमीच लडाखकडे चीन आणि पाकिस्तानला लागून असलेली जमीन म्हणून पाहतो. दुर्दैवाने, या तिन्ही देशांमधील (ज्यांनी सध्या लहान मुलांप्रमाणे लढायचे ठरवले आहे) धोरणात्मक भू-राजकीय स्थितीचा फटका या प्रदेशाला बसतोय आणि बसेल.

एकंदरीत, मुंबईपासून अवघ्या सहा तासांच्या अंतरावर असलेल्या चिपळूण शहरात बसून, लडाखची दुर्दशा आता या देशातील शहरे किंवा ग्रामीण भागात राहणाऱ्या आपल्या सर्वांसारखीच आहे हे मला समजले. आमच्याकडे अद्भुत संस्कृती, परंपरा, समुदाय, संसाधने मुबलक आहेत आणि त्यावर  शहरीकरण आणि जागतिकीकरण यांचे आक्रमण चालले आहे. तर, ह्या दोघांमधील संतुलनाची एक विचित्र लढाई आहे! आपण सगळेच धडपडत आहोत, पण आपल्याला त्याची सवय झाल्येय.

मला विश्वास आहे की लडाख आणि जम्मू आणि काश्मीरला मदत करण्यासाठी आम्ही पुढे यायला हवं कारण या सगळ्यात ते तुलनेने नवीन आहेत. आपण सकारात्मक विचार तरी नक्कीच पाठवू शकतो !!! ते फुकट आहे!!!

——

मूल विचार: अंग्रेजी

कहानी और रिपोर्ट

रिपोर्ट

2022 में जब WAF टीम, यानी ओकाज़ुसन और अकोसन ने लद्दाख के माथो गांव का दौरा किया, तो बहुत कुछ बदल गया था। हालांकि वहां के शिक्षक उन कमरों में पढ़ा रहे थे, जिनमें अर्थ आर्ट प्रोजेक्ट 2016 की पेंटिंग थीं, उन्हें इसके बारे में कुछ भी पता नहीं था। कुछ छात्रों ने परियोजना में भाग लिया और सचित्र वातावरण का आनंद लिया था और आज भी ले रहे थे।

बैठक में जापानी टीम ने साझा किया कि कैसे सात भाई-बहनों वाली एक महिला – पद्मा – ने उन्हें अपने साधारण खाना पकाने (मोमोज और बटर टोस्ट) और ऑर्गेनिक लद्दाख जैसी स्थायी पहल में अपनी भागीदारी से प्रेरित किया। एक छोटा समुदाय होने के कारण एक अकेले व्यक्ति ने कई भूमिकाएँ निभाईं, जो उन सभी के बीच टीम द्वारा बताए गए संबंधों से स्पष्ट था। पूरे वर्ष पानी की आपूर्ति सुनिश्चित करने के लिए समुदाय ने “जल जीवन मिशन” चलाया। यहाँ भूजल प्राथमिक जल स्रोत बन जाता है, और शुष्क गर्मी के महीनों में बर्फ के स्तूप काम में आते हैं। प्राथमिक जल स्रोत, भूजल, लद्दाख की संस्कृति में पानी के रंग को हरा बनाता है।

जापानी टीम ने स्टूडेंट के लद्दाख के शैक्षिक और सांस्कृतिक आंदोलन – SECMOL और उनके सौर ऊर्जा का उपयोग करने और उसी के बारे में जागरूकता फैलाने की उनकी पहल के बारे में भी बात की। चूंकि वॉल आर्ट प्रोजेक्ट एक एनपीओ के रूप में स्थायी पर्यावरण के अनुकूल जीवन समाधान के बारे में है, उन्होंने लद्दाख में पाए जाने वाले दो-मंजिला पारंपरिक खाद शौचालय के पीछेकी इंजीनियरिंग पर भी चर्चा की।

जब नाओमी अध्यापिका जीने लदाख में वर्तमान शैक्षणिक स्थिति को समझने की बात की उन्होंने बताया की विशेष रूप से अनुच्छेद 370 और 35A को समाप्त करने के बाद बहुत सी चीजें बदल गई हैं और बदलती रहेंगी। उन्होंने यह भी उल्लेख किया कि गैरसरकारी स्कूल पहले से केंद्रीय पाठ्यक्रम का पालन कर रहे थे। तथाकथित नए पाठ्यक्रम में छात्रों का समायोजन और लद्दाखी की कमी के परिणाम को देखा जाना बाकी है।

लद्दाख के एक केंद्र शासित प्रदेश में बदल जाने से बेशक, सकारात्मक और नकारात्मक प्रावधान लद्दाख में आए हैं। उनके ही साथ बड़े पैमाने में भ्रष्टाचार और नौकरशाही जैसे उन प्रावधानों के एक हिस्से के रूप में ही आ गई हैं।

पुगा में, भूतापीय ऊर्जा को वैकल्पिक ऊर्जा के रूप में बेचा जा रहा है; हालाँकि, इस तरह के विकास की स्थिरता हमेशा की तरह संदिग्ध बनी हुई है।

कुछ साल पहले, अधिक ऊंचाई पर स्थित गांवों तक चीजें पहुचने के लिए एक सप्ताह की आवश्यकता थी। अब आवश्यक समय बहुत कम है, लेकिन समुदाय की ताकत भी कम होती जा रही है।

इसके अलावा लद्दाख में रोहतांग दर्रे जैसे पर्यटक कचरे की समस्या पर भी चर्चा की गई। कचरे को जलाना भी उपयुक्त विकल्प नहीं है। कभी-कभी, भले ही लोग प्रकृति को समझते हैं, लेकिन उनके पास कोई विकल्प नहीं होता। जिम्मेदार पर्यटन जैसी संकल्पनाओं के माध्यम से पर्यटन से उत्पन्न होने वाली समस्याओं का समाधान हो सकता है।

एक देश के रूप में भारत हमेशा लद्दाख को चीन और पाकिस्तान से सटे एक रणनीतिक भूमि के रूप में देखता है। दुर्भाग्य से, इस क्षेत्र को इन तीन देशों के बीच (जिन्होंने वर्तमान में छोटे बच्चों की तरह लड़ने का फैसला किया है) अपनी रणनीतिक भू-राजनीतिक स्थिति का खामियाजा भुगतना पड़ा हैं और पड़ेगा।

कुल मिलाकर, मुंबई से छह घंटे की दूरी पर चिपलून शहर में बैठे हुए, मैं समझ सकती था कि एक लद्दाखी की दुर्दशा अब पूरी तरह से इस देश के कस्बों या ग्रामीण हिस्सों में रहने वाले हम सभी के समान है। हमारे पास अद्भुत संस्कृतियां, परंपराएं, समुदाय, संसाधन आदि हैं। सचमुच शहरीकरण और वैश्वीकरण उन सभी पर हमला कर रहा है। तो, यह दोनों के बीच संतुलन की एक अजीब लड़ाई है! हम सभी संघर्ष कर रहे हैं, लेकिन हम सभीको इसकी आदत पद चुकी हैं।

मेरा मानना ​​है कि लद्दाख और जम्मू-कश्मीर की मदद करने के लिए हमें जिम्मेदारी उठानी चाहिए क्योंकि वे इस मामले में तुलनात्मक रूप से नए हैं। कम से कम हम सकारात्मक विचार तो भेज ही सकते हैं!!! यह निःशुल्क है!!!

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: