Rendezvous with an Urushi Artist Meguri Ichida – Part 1/उरुशी कलाकार मेगुरी इचिदा के साथ बातचीत – भाग १/उरुशी कलाकार मेगुरी इचिदासह गप्पा – भाग १

Original thought: English

 

Rendezvous with an Urushi Artist Meguri Ichida – Part 1

Today, we have an opportunity to understand what urushi (natural lacquer) art means from the artist Meguri Ichida herself. This is an interview series of 3 articles which help you understand not only what the art is but what it means to the world today. Furthermore, we also delve into understanding the artist as any creation is incomplete without the knowledge of its creator!

  1. What is urushi? (only explanation of the word)

Urushi is related to the art of being a natural lacquer artist.

 

  1. When and where did this art of urushi originate?

People say that the art of Urushi can be dated back to Jomon era (period in Japan 14000–300 BCE). However, scholars hold different opinion about whether it originated in China or Japan.

 

  1. What are all the different types of people involved in this?

There are several people involved in the making of urushiware. There are people who extract the tree sap, urushi, from the trees. They are called Urushikaki. Then, there are those who are involved in the purification of urushi. This involves taking the raw urushi and ensuring that no water remains and there is a nice glaze visible. Then, there are craftsmen who make the wooden utensils, rokuurushi. Then, there are those who apply urushi on the surface of the utensils called nushi. The people to paint pictures on the utensils are called makieshi and those who carve the surfaces and fill the colours are called chinkeishi. The people who sell urushiware are called tonya. Many of the Urushi painters have become writers today and they write about the art, its history, the traditions and people involved and various other wonderful things.

 

  1. How many processes are involved in making urushi utensils? (Please explain each process in detail)

There are various ways in which Urushiware can be made. Each method has different number of processes involved. Today, I am going to tell you about the method which involves 26 processes.

  1. KIJIGATAME

In Kijigatame, a layer of urushi sap is applied on the wood to strengthen the wood and make it waterproof. This also facilitates further processing of the product.

  1. NUNOKISE

Like Kijigatame, Nunokise is a reinforcement process. A linen cloth is stuck on the wooden product using noriurushi, a traditional glue made of rice flour along with raw urushi is used.

  • NUNOKISE TOGI

In Japanese, the word togi means to sharpen. Using sandpaper, the surface of the product is smoothened.

  1. NUNOMEZOROE

This process involves making the surface of the product as smooth as possible. Fine sand and raw URUSHI, called KIRIKOSABI, is mixed and using a spatula is applied on the surface of the product to eliminate any irregularities.

  1. JIDUKE

This process is used to further smoothen the surface of the product. Mixture of fine sand and Noriurushi is applied with spatula on the surface of the product.

  1. JIDUKE TOGI

This process is similar to process 3. Here, instead of sandpaper, a coarse grindstone is used to smoothen the surface.

  • JIDUKEGATAME

This process hardens the surface of the product with the help of a grinder so that the thin raw urushi is impregnated in the surface of the wood.

  • KIRIKODUKE

This process involves further smoothening and hardening of the surface. For this KIRIKOSABI is used, as in process 4.

  1. KIRIKOSABI TOGI

Similar to process 6 a coarse grindstone is used to further smoothen the surface.

  1. KIRIKOSABI GATAME

This process is similar to process 7 and works further on impregnating the thin raw urushi in the wooden surface of the product.

 

Processes 8 through 10 are repeated thrice using finer sand to get a perfectly smooth surface.

 

  1. SABIDUKE

Mixture of the best quality fine sand called TONOKO and raw URUSHI is pasted on the surface of the product. This mixture is called as SABIURUSHI.

  • SABITOGI

Similar to process 6, a coarse grindstone is used to smoothen the surface of the product.

  • SABIGATAME

Like process 7, it involves impregnating thin raw URUSHI into the surface of the product.

 

Processes 11 through 13 are repeated thrice using finer sand to get a perfectly smooth surface.

Now a chain of processes involving creation of a smooth surface come to conclusion. Henceforth a new chain of processes starts which are related to the artwork or beautification of urushiware.

 

  • SITANURI

From here, we start the processes of painting.

This process involves finding out the tiniest bumps or minutest elevations on the surface. One of the purified forms of raw URUSHI, called KURONAKAURUSHI, is used for painting it black. After the painting is done, it becomes easier to find tiny bump or minute elevations.

  1. SITANURI TOGI

Like process 6, grindstone is used to make the surface fine and smooth. However, the stone used is finer now, approximately of No. 600.

  • KESYOUSABIDUKE

Like pretty woman use cosmetics to enhance their beauty, since past, SABIURUSHI is pasted to flatten the tiny bumps or minute elevations/imperfections.

  • KESYOUSABI TOGI

Like process 15, a finer grindstone of about No. 600 is used to make the surface fine and smooth.

  • SITANURI (second round of painting)

Like process 14, the surface is painted once again.

  • SITANURI TOGI

Like process 15, a finer grindstone of about No. 600 is used to make the surface fine and smooth. However, if any tiny bumps or minute elevations are found, processes 16 through 19 are repeated.

  1. NAKANURI

In this process, the inside of the urushiware is painted with black colour, called KURONAKAURUSHI, albeit at this stage the work is done much more carefully and minutely.

  • NAKANURI TOGI

Like a process 15, this process involves making the surface of urushiware more smooth and fine. The grindstone used here is of No. 800.

  • UWANURI (last coat of paint)

This process is like a process 20 but it uses KUROROIROURUSHI or UWANURI painting instead of KURUNAKAURUSHI.

  • UWANURI TOGI

This process is like process 21. However, it uses No. 1000–3000 grindstone to get a smoother finish on urushiware.

  • Migaku

In this process, the product is polished to achieve smooth and shining surface.

  • Makie

Using thin brush, different pictures are painted on the surface of the final product, golden and silver being the popular colours.

  • Chinkin

After the polishing is done at its finest, the work of the carver begins. There is no scope of failure here as the picture has to be carved in one go without any mistakes. After the carving is done, urushi is applied and then the colour powder is inserted in the carving.

 

  1. Are all the processes traditional or were there any new processes added?

Here, all the processes mentioned are those that are traditionally followed. I have not talked about the newer techniques and processes that are added with time.

____________________________________________________________________________________________

मूल विचार: अंग्रेजी

 

उरुशी कलाकार मेगुरी इचिदा के साथ बातचीत – भाग १

आज, हमें श्रीमती मेगुरी इचिदा जी, जो खुद एक उरुशी कलाकार हैं, उनसे उरुशी (प्राकृतिक लाख) कला के बारे में जानने का सुनहरा अवसर प्राप्त हुआ हैं। इन  तीन लेखों की श्रृंखला में हम न केवल उरुशी कला को समझने का पर आज के दौर में इस कला के मायने जानने का प्रयास करेंगे। क्योंकि निर्माता को जाने बिना उसके सृजन को सराहना अपूर्ण होगा, हम कलाकार श्रीमती मेगुरी इचिदा के बारेमें भी और जानने की कोशिश करेंगे।

 

१. उरुशी क्या है? (संक्षिप्त रूप में)

उरुशी प्राकृतिक लाह/लाख कलाकार के पेशे से संबंधित कला हैं।

 

२. उरुशी की यह कला कब और कहाँ से शुरू हुई?

लोग कहते हैं कि उरुशी की कला के पहले प्रयोग को जोमोन युग (ख्रिस्तपूर्व सन १४००० से ३०० 14000-300 का अवधि) में पाया गया था। हालांकि, उरुशी की कला का उगम चीन या जापान में हुआ इसके बारे में विद्वानों में मतभेद है।

 

३. क्या आप इसमें शामिल विभिन्न प्रकार के लोगों के विषय में बता सकती हैं?

उरुशी के बरतन बनाने में कई लोग शामिल होते हैं। पहले कुछ खास लोग पेड़ो से लाह (राल/गोंद/पौधों का रस) यानी उरुशी निकलते हैं। उन्हें उरुशिकाकी (उरूशी निकलनेवाले) कहा जाता है। फिर, कुछ लोग उरुशी के रस का शुद्धिकरण करते हैं। इसमें कच्चे उरुशी को लेकर शुद्ध करते वक़्त यह सुनिश्चित किया जाता हैं की शुद्ध किए गए उरुशी में कोई पानी न बचे और उसमें एक खास चमक हो। फिर, उरुशी के पेड़ के लकड़ी से बरतन बनानेवाले कारीगर हैं। इन्हें रोकुउरुशी कहा जाता हैं। फिर, इन बरतनों की सतह पर उरुशी/लाह की पुताई करनेवाले लोग होते हैं जिन्हें नुशी कहते हैं। बरतनों की सतह पर चित्र को रंगने वाले लोगों को माकिएशी कहा जाता है और जो सतहों पर नक्काशी बनाकर उनमें रंग भरते हैं उन्हें चिंकेइशी कहा जाता है। उरुशी के बरतन बेचने वाले लोग तोन्-या कहलाते हैं। उरुशी चित्रकारों में से कई आज लेखक बन गए हैं और वे कला, इतिहास, परंपराओं और इनमें शामिल लोगों और विभिन्न अन्य अद्भुत चीजों के बारे में लिखते हैं।

 

 

४. उरुशी के बरतन बनाने में कितनी प्रक्रियाएं शामिल होती हैं? (कृपया प्रत्येक प्रक्रिया को विस्तार से समझाएं।)

उरुशी के बरतन बनाने के कई तरीके हैं। प्रत्येक विधि में शामिल प्रक्रियाओं की संख्या अलग-अलग होती है। आज, मैं आपको उस विधि के बारे में बताने जा रही हूँ जिसमें २६ प्रक्रियाएं शामिल हैं।

 

  • किजिगातामे

इसमें, लकड़ी को मजबूत करने और इसे जल प्रतिरोधी बनाने के लिए लकड़ी पर उरुशी/लाह की एक परत लगाई जाती है। यह उत्पाद की आगे की प्रक्रिया को भी सुविधाजनक बनाता है।

२) नूनोकिसे

किजिगातामे की तरह, नुनोकिसे एक सुदृढीकरण प्रक्रिया है। नोरिुउरुशी (एक परंपरागत गोंद जो कच्ची लाह और चावल जे आटे का उपयोग कर बनाई जाती हैं) का उपयोग कर लकड़ी के उत्पाद पर एक रेशम का कपड़ा चिपकाया जाता है।

३) नूनोकिसे तोगी

जापानी में, तोगी का मतलब है तेज करना। रेगमाल (सैंडपेपर) का उपयोग कर उत्पाद की सतह को चिकना किया जाता है।

४) नुनोमेज़ोरोए

इस प्रक्रिया में उत्पाद की सतह को यथासंभव चिकना बनाया जाता है। बारीक़ रेत और कच्चे उरुशी/लाह का मिश्रण, जिसे किरिकोसाबी कहा जाता है, सभी अनियमितताओं को खत्म करने के लिए उत्पाद की सतह पर एक चपटे चम्मच का उपयोग कर लगाया जाता है।

५) जिदुके

इस प्रक्रिया का उपयोग उत्पाद की सतह को और चिकना करने के लिए किया जाता है। उत्पाद की सतह पर चपटे चम्मच से साथ बारीक़ रेत और नोरिुउरुशी का मिश्रण लगाया जाता है।

६) जिदुके तोगी

यह प्रक्रिया प्रक्रिया ३ के समान है। यहां, सैंडपेपर के बजाय, सतह को चिकना करने के लिए एक मोटे सान चढ़ाने के पत्थर (ग्राइंडस्टोन) का उपयोग किया जाता है।

७) जिदुकेगातामे

यह प्रक्रिया उत्पाद की सतह को एक ग्राइंडर की मदद से सख्त करती है ताकि लकड़ी की सतह में लगाई गई पतली उरुशी/लाह अच्छेसे एकरूप हो जाए।

८) किरिकोदुके

इस प्रक्रिया में सतह को और चिकना और सख्त करनेका प्रयास किया जाता है। इस प्रकिया में भी प्रक्रिया ४ जैसेही किरिकोसाबी का इस्तेमाल किया जाता है।

९) किरिकोसाबी तोगी

प्रक्रिया ६ के समान सतह की चिकनाई बढ़ाने के लिए एक मोटे ग्राइंडस्टोन का उपयोग किया जाता है।

१०) किरिकोसाबी गातामे

यह प्रक्रिया, प्रक्रिया ७ के समान है। इसमें उत्पाद की लकड़ी की सतह में पतली उरुशी/लाह को एकरूप करने पर आगे काम होता है।

पूरी तरह से चिकनी सतह प्राप्त करने के लिए प्रक्रियाऐं ८ से १० को बेहतर रेत का उपयोग कर तीन बार दोहराया जाता है।

११) सबिदुके

तोनोको नामक सर्वोत्तम गुणवत्ता वाली अच्छी रेत और कच्चे उरुशी का मिश्रण उत्पाद की सतह पर लगाया जाता है। इस मिश्रण को साबिउरुशी कहा जाता है।

१२) साबितोगी

प्रक्रिया ६ की तरह, एक मोटे ग्राइंडस्टोन का प्रयोग उत्पाद की सतह को चिकना करने के लिए किया जाता है।

१३) साबिगातामे

प्रक्रिया ७ की तरह, इसमें उत्पाद की सतह में पतली कच्ची उरुशी को एकरूप करना शामिल है।

पूरी तरह चिकनी सतह प्राप्त करने के लिए प्रक्रियाए ११ से १३ को बेहतर रेत का उपयोग करके तीन बार दोहराया जाता है।

अब एक चिकनी सतह के निर्माण से जुड़े प्रक्रियाओं की एक श्रृंखला अपने चरम पर आती है। इसके बाद प्रक्रियाओं की एक नई श्रृंखला शुरू होती है जो चित्रकारी या उरुशी के बरतनों के सौंदर्यीकरण से संबंधित होती है।

१४) सितानुरि

यहां से हम चित्रकला की प्रक्रिया शुरू करते हैं।

इस प्रक्रिया में सतह पर सबसे छोटी बाधाओं या छोटीसी बची हुई न्यूनताओं को ढूंढना शामिल है। कच्ची उरुशी के शुद्ध रूपों में से एक, जिसे कुरोनाकाउरुशी कहा जाता है, उसका उपयोग बरतन को काला रंग देने के लिए किया जाता है। पुताई के बाद, छोटी बाधाओं या बची हुई न्यूनताएँ ढूंढना आसान हो जाता है।

१५) सितानुरी तोगी

प्रक्रिया ६ की तरह, ग्राइंडस्टोन का प्रयोग सतह को ठीक और चिकनी बनाने के लिए किया जाता है। हालांकि, इस्तेमाल किया जाने वाला पत्थर और भी बेहतर (लगभग नंबर ६०० का) होता है।

१६) केस्योउसाबिदुके

जैसे सुंदर महिलाए अपने सुंदरता को निखारनें के लिए सौंदर्य प्रसाधनों का उपयोग करती हैं, वैसेही पहले के ज़माने, सबिउरुशी को छोटी बाधाओं या बहुत छोटी न्यूनताओं/अपूर्णताओं को मिटाने के लिए लगाया जाता है।

१७) केस्योउसाबि तोगी

प्रक्रिया १५ की तरह, लगभग नंबर ६०० का एक बेहतर ग्राइंडस्टोन सतह को ठीक और चिकनी बनाने के लिए उपयोग में आता है।

१८) सितानुरि (चित्रकला का दूसरी श्रृंखला)

प्रक्रिया १४ की तरह, सतह पर एक बार फिर पुताई होती है।

१९) सितानुरि तोगी

प्रक्रिया १५ की तरह, लगभग नंबर ६०० का एक बेहतर ग्राइंडस्टोन सतह को ठीक और चिकनी बनाने के लिए उपयोग में आता है। हालांकि, यदि कोई छोटी बाधाएँ या बहुत छोटी न्यूनताऐं जाती हैं, तो १६ से १९ की प्रक्रियाओं को दोहराया जाता है।

२०) नाकानुरि

इस प्रक्रिया में, उरुशी के बरतन के अंदरुनी सतह को काले रंग से पुताई होती हैं, जिसे कुरोनाकाउरुशी कहा जाता है। अगर इस चरण में काम अधिक सावधानीपूर्वक और बारीकी से किया जाता है।

२१) नाकानुरि तोगी

प्रक्रिया १५ की तरह, इस प्रक्रिया में उरुशी के बरतन की सतह को अधिक चिकनी और अच्छा बनाना शामिल है। यहां इस्तेमाल किया गया ग्राइंडस्टोन नंबर ८०० का होता है।

२२) उवानुरि (आखरी पुताई)

यह प्रक्रिया, प्रक्रिया २० की तरह है। लेकिन यह कुरोनाकाउरुशी के बजाय कुरोरोइरोउरुशी या उवानुरि रंग का उपयोग करती है।

२३) उवानुरि तोगी

यह प्रक्रिया, प्रक्रिया २१ की तरह है। हालांकि, यह उरुशी के बरतन की सतह पर बहुत अच्छी चिकनाई लाने के लिए नंबर १०००-३००० के ग्राइंडस्टोन का उपयोग करती है।

२४) मिगाकु

इस प्रक्रिया में, उत्पाद के सतह को चिकनी और चमकीली बनाने के लिए चमकाया (पॉलिश किया) जाता है।

२५) मकिए

पतले ब्रश का उपयोग कर, उत्पाद की सतह पर विभिन्न चित्रों को चित्रित किया जाता है। इन चित्रों को सुनहरे और चंदेरी रंग में लोग बहुत पसंद करते हैं।

२६) चिनकिन

पॉलिशिंग (चमकाने की प्रक्रिया) के बेहतरीन होने के बाद, नक्काशी बनाने वालों का काम शुरू होता है। यहां गलती की कोई गुंजाइश नहीं होटी क्योंकि नक्काशी करनेवाले को एक ही बार में बिना किसी गलती के चित्र को होता है। नक्काशी बनाने के बाद उरुशी से पुताई कर फिर नक्काशी में रंग की पाउडर डाली जाती है।

 

५. क्या यह सभी प्रक्रियाएँ पारंपरिक हैं या इनमें कोई नई प्रक्रियाएं भी शामिल हैं?

यहां,उल्लिखित सभी प्रक्रियाएं परंपरागत रूप से पालन की जाती हैं। यहाँ मैंने समय के साथ जोड़े गए नई तकनीकों और प्रक्रियाओं के बारे में बात नहीं की है।

____________________________________________________________________________________________

मूळ विचार: इंग्रजी

 

उरुशी कलाकार मेगुरी इचिदासह गप्पा – भाग १

आज आपल्याला स्वतः लाख कलाकार मेगुरी इचिदा यांच्याकडून उरुशी (नैसर्गिक लाख कलाकार) कलेचा अर्थ समजून घेण्याची संधी मिळाली आहे. या तीन लेखांच्या मुलाखत श्रृंखलेतुन केवळ उरुशी कलेविषयी नाही तर या कलेच्या आजच्या जगातील स्थानाविषयीही अधिक माहिती मिळणार आहे. कलाकाराविषयी जाणून न घेता केवळ कलाकृतीचा रसास्वाद घेणे कलाकृतीचा अर्थ समजून घेण्यासाठी  अपूर्ण ठरते. म्हणूनच आपण या लेखांमधून उरुशी कलाकार श्रीमती इचिदा यांनाही समजून घेण्याचा प्रयत्न करणार आहोत.

 

१. उरुशी म्हणजे काय? (संक्षिप्त स्पष्टीकरण)

उरुशी म्हणजे नैसर्गिक लाखकाम करण्याची कला.

 

२. उरुशीची ही कला कधी आणि कुठे उगम पावली?

लोक म्हणतात की उरुशीची कला जोमोन काळापासून (जपानमधील एक काळ इसवी सन पूर्व १४००० – ३०० च्या दरम्यान) अस्तित्वात आहे. तथापि, ह्या कलेचा उगम चीनमध्ये झाला कि जपान मध्ये याविषयी विद्वानांमध्ये मतभेद आहेत.

 

३. यामध्ये सहभागी विविध प्रकारच्या लोक/कलाकारांविषयी सांगू शकाल का?

उरुशीची भांडी तयार करण्यामध्ये बऱ्याच लोकांचा सहभाग असतो. प्रथम, काही लोक उरुशीच्या झाडापासून लाख जमा करण्याचे काम करतात. त्यांना उरुशीकाकी म्हणजेच लाख काढणारे लोक असे संबोधतात. त्यानंतर येतात या लाखेच्या शुध्दीकरण प्रक्रियेत सहभागी असलेले लोक. यामध्ये कच्च्या उरुशीमधून पाण्याचा अंश संपूर्णतः वेगळा करणं महत्वाचं असतं. त्याबरोबरच शुद्ध केलेल्या उरुशिवर एकप्रकारची निराळी चमक येईल याचीही खबरदारी घेतली जाते. उरुशीच्या लाकडापासून भांडी तयार करणाऱ्या कारागिरांना रोकुउरुशी म्हणतात. या भांड्यांच्या पृष्ठभागावर उरुशीचे लेपन करणाऱ्या लोकांना नुशी म्हणतात. या भांड्यांवर चित्रे रंगविणाऱ्या चित्रकारांना माकेइशि म्हणतात. तसेच या भांड्यांवर नक्षी कोरून त्यात रंग भरणाऱ्या कलाकारांना चिन्-केइशि म्हणतात. उरुशीच्या भांड्यांची विक्री करणाऱ्या लोकांना तोन्-या म्हणतात. अनेक उरुशी चित्रकार आज लेखक बनले आहेत आणि ते उरुशी कला, तिचा इतिहास, परंपरा आणि इतर विविध गोष्टींबद्दल लिहितात.

 

४. उरुशीची भांडी बनविण्यासाठी किती प्रक्रिया लागतात? (कृपया प्रत्येक प्रक्रियेचे तपशीलवार वर्णन करा)

उरुशीची भांडी बनवण्यासाठी विविध मार्ग अवलंबिले जाऊ शकतात. प्रत्येक पद्धतीमध्ये विविध प्रक्रियांचा समावेश असतो. आज, मी तुम्हाला २६ प्रक्रियांचा समावेश असलेल्या पद्धतीबद्दल सांगणार आहे.

 

  • किजिगातामे

यामध्ये, उरुशीच्या रसाचा एक थर लाकडावर लावला जातो ज्यामुळे लाकूड अधिक मजबूत आणि जलप्रतिरोधक बनते. हि प्रक्रिया भांड्यावर होणाऱ्या पुढील प्रक्रिया करणे अधिक सुलभ करते.

  • नुनोकिसे

किजिगातामेप्रमाणे, नुनोकिसे भांड्याला मजबुती देणारी प्रक्रिया आहे. नोरिउरुशीचा (कच्ची उरुशी आणि तांदुळाच्या पिठापासून बनवला जाणारा पारंपरिक गोंद) वापर करून लाकडी भांड्यावर एक रेशमाचे कापड चिकटवले जाते.

  • नुनोकिसे तोगि

जपानीमध्ये, तोगि शब्दाचा अर्थ तीक्ष्ण करणे असा होतो. सॅन्डपेपर (खरखरीत कागद) वापरून भांड्याचा पृष्ठभाग गुळगुळीत केला जातो.

  • नुनोमेझोरोए

या प्रक्रियेत भांड्याचा पृष्ठभाग शक्य तितका गुळगुळीत केला जातो. किरिकोसाबी नामक बारीक वाळू आणि कच्ची उरुशी यांचे मिश्रण चपट्या चमच्याच्या साहाय्याने भांड्याच्या पृष्ठभागावर कोणत्याही राहिलेल्या अनियमितता दूर करण्यासाठी लावावे लागते.

  • जिदुके

या प्रक्रियेचा वापर भांड्याच्या पृष्ठभागास आणखी गुळगुळीत करण्यासाठी केला जातो. भांड्याच्या पृष्ठभागावर चपट्या चमच्याने अतिशय बारीक वाळू आणि नोरिउरुशीचे मिश्रण लावले जाते.

  • जिदुके तोगि

ही प्रक्रिया, प्रक्रिया ३ सारखी आहे. यात सॅंडपेपरऐवजी, एक खडबडीत दगड भांड्याचा पृष्ठभाग गुळगुळीत करण्यासाठी वापरला जातो.

  • जिदुके गातामे

ह्या प्रक्रियेत ग्राइंडर (धार लावलेले चाक) च्या मदतीने भांड्याचा पृष्ठभाग घासला जातो ज्यामुळे तो अधिक मजबूत होतो व पृष्ठभागात उरुशी/लाख एकरूप होते.

  • किरिकोदुके

या प्रक्रियेमध्ये भांड्याचा पृष्ठभाग अधिक गुळगुळीत आणि मजबूत बनवला जातो. यासाठी प्रक्रिया ४ प्रमाणे किरिकोसाबि वापरले जाते.

  • किरिकोसाबि तोगि

प्रक्रिया ६ प्रमाणेच एक खडबडीत दगड भांड्याचा पृष्ठभाग गुळगुळीत करण्यासाठी वापरला जातो.

  • किरिकोसाबि गातामे

ही प्रक्रिया, प्रक्रिया ७ सारखी आहे. यात भांड्याच्या लाकडी पृष्ठभागात कच्ची उरुशी/लाख एकरूप होऊन तो मजबूत होण्यासाठी प्रयत्न केले जातात.

पूर्णतया गुळगुळीत पृष्ठभाग मिळवण्यासाठी अधिक बारीक वाळूचा वापर करून प्रक्रिया ८ ते १० या अजून तीन वेळा केल्या जातात.

  • साबिदुके

तोनाको नावाची उत्तम दर्जाची बारीक वाळू आणि कच्ची उरुशी यांचे मिश्रण भांड्याच्या पृष्ठभागावर लावले जाते. या मिश्रणाला साबिउरुशी म्हणतात.

  • साबितोगि

प्रक्रिया 6 प्रमाणेच भांड्याचा पृष्ठभाग गुळगुळीत करण्यासाठी एक खडबडीत दगड वापरला जातो.

  • साबिगातामे

प्रक्रिया ७ प्रमाणे यात भांड्याच्या पृष्ठभागात कच्ची वर्षी एकरूप करण्यासाठी प्रयत्न केले जातात.

पूर्णतः गुळगुळीत पृष्ठभाग मिळवण्यासाठी सुधारीत वाळूचा वापर करून ११ ते १३ प्रक्रियांची पुनरावृत्ती केली जाते.

आता गुळगुळीत पृष्ठभाग तयार करण्याच्या प्रक्रियांची श्रृंखला निष्कर्षापर्यंत पोहोचते. येथून उरुशीच्या भांड्यांवर कलाकुसर करणे व त्यांचे सुशोभिकरण करण्यासाठीच्या प्रक्रियांची नवीन श्रृंखला सुरू होते.

  • सितानुरि

येथून रंगकामाची प्रक्रिया सुरू होते.

या प्रक्रियेमध्ये पृष्ठभागावरील लहानात लहान उंचवटे अथवा बारीकश्या कमतरता शोधल्या जातात. कच्च्या उरुशीच्या सर्वाधिक शुद्ध स्वरूपांपैकी एक, कुरोनाकाउरुशी, भांड्याला काळा रंग देण्यासाठी वापरले जाते. रंगकाम पूर्ण झाल्यानंतर लहान उंचवटे किंवा बारिकश्या कमतरता शोधणे सोपे होते.

  • सितानुरि तोगि

प्रक्रिया ६ प्रमाणे, पृष्ठभाग सपाट आणि गुळगुळीत करण्यासाठी ग्राइंडस्टोन (खडबडीत दगड) वापरला जातो. तथापि, इथे वापरलेला दगडी अधिक उच्च दर्जाचा असतो, अंदाजे क्रमांक ६००.

  • केस्योउसाबिदुके

ज्याप्रमाणे सुंदर स्त्रिया आपले सौंदर्य वाढवण्यासाठी सौंदर्यप्रसाधन वापरतात, तसेच पूर्वीपासून, लहान उंचवटे अथवा बारिकश्या कमतरता दूर करण्यासाठी भांड्याच्या पृष्ठभागावर साबिउरुशीचा लेप दिला जातो.

  • केस्योउसाबि तोगि

प्रक्रिया १५ प्रमाणे, सुमारे क्रमांक ६०० चा ग्राइंडस्टोन (खडबडीत दगड) भांड्याचा पृष्ठभाग अधिक सपाट व गुळगुळीत करण्यासाठी वापरला जातो.

  • सितानुरि (रंगकामाची दुसरी फेरी)

प्रक्रिया १४ प्रमाणे, पृष्ठभागावर पुन्हा एकदा रंगकाम केले जाते.

  • सितानुरि तोगि

प्रक्रिया १५ प्रमाणे, सुमारे क्रमांक ६०० चा ग्राइंडस्टोन (खडबडीत दगड) भांड्याचा पृष्ठभाग अधिक सपाट व गुळगुळीत करण्यासाठी वापरला जातो. तथापि, जर काही लहान उंचवटे किंवा बारीकशी कमतरता आढळली तर १६ ते १९ या प्रक्रिया पुनः केल्या जातात.

  • नाकानुरि

या प्रक्रियेत उरुशीच्या भांड्याची आतील बाजू काळ्या रंगाने, कुरोनाकाउरुशीने, रंगवली जाते. या टप्प्यावर काम अधिक काळजीपूर्वक आणि तपशीलवार केले जाते.

  • नाकानुरि तोगि

प्रक्रिया १५ प्रमाणे, या प्रक्रियेमध्ये उरुशीच्या भांड्यांचा पृष्ठभाग अधिक गुळगुळीत व सपाट करण्यासाठी प्रयत्न केले जातात. यात वापरला जाणारा ग्राइंडस्टोन  क्रमांक ८०० चा असतो.

  • उवानुरि (रंगाचा शेवटचा थर)

ही प्रक्रिया, प्रक्रिया २० सारखी आहे परंतु यात कुरोनाकाउरुशीऐवजी कुरोरोइरोउरुशी अथवा उवानुरि रंगाचा वापर केला जातो.

  • उवानुरि तोगि

ही प्रक्रिया, प्रक्रिया २१ सारखी आहे. परंतु, उरुशीच्या भांड्याच्या पृष्ठभाग पूर्णतः सपाट व गुळगुळीत करण्यासाठी क्रमांक १००० ते ३००० चा ग्राइंडस्टोन (खडबडीत दगड) वापरला जातो.

  • मिगाकु

या प्रक्रियेमध्ये उरुशीच्या भांड्याचा पृष्ठभाग अधिक गुळगुळीत व सपाट बनवला जातो.

  • माकिए

पातळ कुंचला वापरुन उरुशीच्या भांड्याच्या पृष्ठभागावर विविध चित्रे काढली जातात. यामध्ये सोनेरी आणि चंदेरी रंग सर्वाधिक लोकप्रिय आहे.

  • चिन्-किन्

उत्तम प्रकारे पॉलिशिंग झाल्यानंतर, नक्षी कोरण्यास सुरुवात होते. यात कुठलीही चूक होऊन चालत नाही कारण एकही चुकीशिवाय नक्षी कोरणे अपरिहार्य असते. कोरीवकाम झाल्यानंतर, त्यावर उरुशीचा लेप दिला जातो आणि त्यानंतर त्यात रंगाची पूड भरली जाते.

 

५. या सर्व प्रक्रिया पारंपारिक आहेत कि यात काही नवीन प्रक्रियाही आहेत?

येथे उल्लेखलेल्या सर्व प्रक्रिया पारंपारिक आहेत. मी नवीन तंत्रे आणि प्रक्रियांबद्दल येथे काही सांगितलेले नाही.

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s