Messenger of peace/शांतिदूत/शांति के दूत

Original thought: English

Messenger of peace

It is a normal day at school. Everything is going like it should. We have a reading class. It was 6th August, 2017. When we went for the class, we were told about the Hiroshima day.

I recall that we learnt about the World War II when I was in school.

During my school years, I had learnt about atomic fission, chain reaction, Albert Einstein, Robert Oppenheimer. Robert Oppenheimer had described the nuclear explosion using a verse from an Indian scripture called Bhagwat Geeta.

The second world war happened much before I was born. It didn’t affect my life at all. Or so I thought.

We all started reading the story of Hiroshima that day. I could remember a lot of things that I had seen, read, heard, thought. We learnt about Sadako Sasaki.

There is a Japanese legend about making origami cranes. It is believed that your wish will come true if you can make 1000 origami cranes.

Sadako Sasaki suffered from Leukaemia as an after effect of the atomic bomb explosion. She wanted to get better and live long. Hence, she started making cranes believing in the story. She would make cranes from all the papers she could lay her hands on. Her friends would also help her in getting papers. There are different opinions about whether she was able to complete making 1000 cranes or not. The fact is that she could not live long and passed away. Her friends made 1000 cranes for her.

Her friends raised funds to make a memorial for her. She stands at Hiroshima Peace Park with a golden crane in her hands telling us all to value and maintain peace. The plaque under the statue says “This is our cry. This is our prayer. Peace in the world.” Every year, on Hiroshima Day, thousands of cranes are offered to Sadako.

In the discussion about the two world wars, weapons, strategies, attacks, deaths are talked about often. None of us want war.

Sadako teaches me what I can do to keep peace. I can tell her story to everyone. I can make paper cranes and teach others to do so. It is very easy to express all the anger, pain, frustration in a war. It takes patience to make cranes. If I can make cranes, my wish would come true. You can call it superstition or belief or optimism.

Many would say that her wish didn’t come true. I don’t believe that.

Indeed, Sadako is not there with us anymore. However, her spirit is indeed here among us. Her story is kept alive by children worldwide who send cranes to her. Those cranes are the messages filled with peace, hope, inspiration, and gratitude. She is alive in the thoughts of peace that transform themselves into the cranes.

Origami is a form of art through which we all can connect to the folklore of Japan and the legend of Sadako. With enough concentration, all of us can make a decent paper crane. However, if we think about Sadako while making it, we might put in a lot more energy into it.

I am giving you a link of a YouTube video which shows you how to make a crane. So, you can share your crane photos with me.

https://www.youtube.com/watch?v=YSTjk8ElGhQ

—————————————————————————————————————————————-

मूळ विचार: इंग्रजी

शांतिदूत

शाळेचा एक नेहमीच दिवस. सगळं जसं चालायला हवं तसं चालू होतं. आमचा वाचनाचा तास होता. तो दिवस ६ ऑगस्ट २०१७ चा होता. आम्ही वर्गात गेल्यावर आम्हाला हिरोशिमा दिनाविषयी सांगितलं गेलं.

आम्ही शाळेत असतांना दुसऱ्या महायुद्धाविषयी शिकलो होतो.

मी शाळेत असताना आण्विक विखंडन, साखळी प्रतिक्रिया, रॉबर्ट ओपेनहायमर, अल्बर्ट आईन्स्टाईन याविषयी शिकले होते. रॉबर्ट ओपेनहायमर यांनी अणुस्फोटाचं वर्णन करण्यासाठी भारतीय ग्रंथ असलेल्या भगवदगीतेतील एका श्लोकाचा उल्लेख केला.

दुसरं महायुद्ध माझ्या जन्माच्या पुष्कळ वर्षं आधी झालं. माझ्या आयुष्यावर त्याचा काहीच परिणाम झाला नाही. किंवा असं मला वाटत तरी होतं.

आम्ही त्यादिवशी हिरोशिमाची गोष्ट वाचायला सुरुवात केली. मला मी पाहिलेल्या, वाचलेल्या, ऐकलेल्या, विचार केलेल्या अनेक गोष्टी आठवत होत्या. आम्ही त्यादिवशी सादाको सासाकी नावाच्या मुलीविषयी शिकलो.

जपानमध्ये ओरिगामीचे कागदी बगळे बनवण्याविषयी एक दंतकथा आहे. असं समजलं जातं कि जर तुम्ही १००० ओरिगामीचे कागदी बगळे बनवले तर तुमची इच्छा पूर्ण होते.

सादाको सासाकी अणुस्फोटाचा परिणाम म्हणून ल्युकेमिया किंवा रक्ताच्या कर्करोगाशी झगडत होती. तिला बरं होऊन खूप वर्षं जगायचं होतं. म्हणून त्या गोष्टीवर विश्वास ठेऊन तिने बगळे बनवायला सुरुवात केली. तिला जे कुठले कागद मिळायचे त्यापासून ती बगळे बनवायची. तिचे मित्रमैत्रिणीही तिला कागद मिळवायला मदत करायचे. ती शेवटी १००० ओरिगामीचे कागदी बगळे बनवू शकली किंवा नाही याविषयी निरनिराळी मते आहेत. खरी गोष्ट अशी कि ती दीर्घकाळ जगू शकली नाही आणि अनंतात विलीन झाली. तिच्या मित्रमैत्रिणींनी तिच्यासाठी १००० बगळे बनवले.

तिच्या मित्रमैत्रिणींनी तिचं स्मारक बनवण्यासाठी निधी जमा केला. ती हिरोशिमा शांती बागेत आपल्या दोन्ही हातांत सोनेरी बगळा घेऊन आपल्याला शांतीचं मोल ठेवत ती जपायला सांगत आहे. तिच्या स्मारकाखालच्या पाटीवर लिहिलेले आहे की, “हीच आमची आस. हीच आमची प्रार्थना. विश्वशांती.” प्रत्येक वर्षी हिरोशिमा दिनी हजारो कागदी बगळे सादाकोला अर्पण केले जातात.

जेव्हा दोन्ही महायुद्धांची चर्चा होते तेव्हा शस्त्रात्रं, युद्धनीती, आक्रमण, मृत्यू यांविषयी बोललं जातं. पण आपल्या कोणालाच युद्ध नकोय.

सादाको मला शांतता राखण्यासाठी काय करायचं हे शिकवते. मी तिची गोष्ट सगळ्यांना सांगू शकते. मी कागदी बगळे बनवू शकते आणि इतरांना कागदी बगळे बनवायला शिकवू शकते. सगळा राग, दुःख, चिडचिड मिळून युद्धात व्यक्त करणं सहज शक्य आहे. पण कागदी बगळे बनवण्यासाठी संयम लागतो. मी जर कागदी बगळे बनवले तर माझी इच्छा पूर्ण होईल. तुम्ही त्याला अंधश्रद्धा किंवा विश्वास किंवा आशावाद काहीही म्हणा.

खूप जण म्हणतील कि तिची इच्छा पूर्ण झाली नाही. मला नाही तसं वाटत.

हे खरंय कि सादाको आज आपल्यात नाही. पण ती आपल्या आसपास चैतन्यरूपाने वावरत आहे. जगभरातून सादाकोसाठी कागदी बगळे पाठवणाऱ्या मुलांनी तिची गोष्ट जिवंत ठेवली आहे. ते बगळे म्हणजे शांती, आशा, प्रेरणा आणि आभार व्यक्त करणारे संदेश आहेत. ती शांतीच्या विचारांमध्ये जिवंत आहे जे कागदी बगळ्यांमध्ये रूपांतरित होतात.

ओरिगामी या कलाप्रकारातून आपण जपानच्या लोकवाङ् मयाशी आणि सादाकोच्या गोष्टीशी जोडले जातो. थोडं लक्ष्य दिलं तर आपण सगळे एक बरासा कागदी बगळा बनवू शकू. पण जर आपण ते बनवताना सादाकोचा विचार केला तर आपण कदाचित खूप जास्त उत्साहाने कागदी बगळा बनवू.

मी इथे कागदी बगळा कसा बनवावा हे दाखवणाऱ्या यु ट्यूब माहितीपटाचा पत्ता देत आहे. तुम्ही तुमचा कागदी बगळा बनवून ते छायाचित्र इथे दाखवू शकता.

https://www.youtube.com/watch?v=YSTjk8ElGhQ

—————————————————————————————————————————————-

मूल विचार: अंग्रेजी

शांति के दूत

यह स्कूल में एक सामान्य दिन था। सब कुछ ऐसा चल रहा था जैसा कि होना चाहिए। आज किताब पढ़ने का क्लास था। ये दिन ६ अगस्त, २०१७ का था। जब हम कक्षा के लिए गए, हमें हिरोशिमा दिवस के बारे में बताया गया।

मुझे याद है कि स्कूल में मैंने द्वितीय विश्व युद्ध के बारे में सीखा था।

मेरे स्कूल के वर्षों के दौरान, मैंने परमाणु विखंडन, चेन रिएक्शन, अल्बर्ट आइन्स्टाइन, रॉबर्ट ओपनहाइमर के विषय में सीखा था। रॉबर्ट ओपनहाइमर ने भगवत गीता नामक एक भारतीय ग्रंथ से श्लोक का उपयोग परमाणु विस्फोट का वर्णन करने के लिए किया था।

दूसरा विश्व युद्ध मेरे जन्म से पहले हुआ था। इसने मेरे जीवन को बिल्कुल भी प्रभावित नहीं किया। या मैं ऐसा सोचती थी।

हमने उस दिन हिरोशिमा की कहानी पढ़ना शुरू किया। मुझे बहुत सारी मैंने देखी हुई, पढ़ी हुई, सुनी हुई, सोची हुई चीजें याद आई। हमनें सादाको सासाकी के बारेमें सीखा।

ओरिगामी सारस बनाने के बारे में एक जापानी कथा है। यह माना जाता है कि अगर आप 1000 कागज़ के सारस बना सकते हैं तो आपकी इच्छा पूरी होगी।

परमाणु बम विस्फोट के प्रभाव के बाद सादाको सासाकि ल्यूकेमिया से पीड़ित हुई। वह बेहतर होकर लंबे समय तक जीना चाहती थी। इसलिए, उसने कहानी में विश्वास कर कागज़ के सारस बनाना शुरू कर दिया। उसे जो भी कागज़ मिलते वह उससे सारस बनाती थी। उसके दोस्त भी कागज़ लाकर उसकी मदद करते थे। क्या वह कागज़ के १००० सारस बना पाई या नहीं इस विषय में लोगों की अलग अलग राय हैं। किन्तु यह सच हैं वह लंबे समय जीवित न रह पाई और चल बसी। उसके दोस्तों ने उसके लिए १००० कागज़ के सारस बनाए।

उसके दोस्तों ने उसके लिए एक स्मारक बनाने के लिए धन जुटाया। वह अपने हाथों में सुनहरा सारस लेके हिरोशिमा शांति उपवन में खड़ी है और हम सभी को शांति का मूल्य बताते हुए शांति बनाए रखने का संदेश दे रही हैं। उसकी मूर्ति के नीचे लिखा हैं, “यह हमारी आवाज है। यह हमारी प्रार्थना है। शांतिपूर्ण दुनिया।” हर साल, हिरोशिमा दिवस पर, सादाको को हजारों कागज़ के सारसों की पेशकश की जाती है।

दो विश्व युद्धों के बारेमें चर्चा करते हुए अक्सर हथियार, रणनीति, हमला, मौत के बारे में बातें होती है। किन्तु हममें से कोई भी युद्ध नहीं चाहता है।

सादाको मुझे सिखाती है कि मैं शांति बनाए रखने के लिए क्या कर सकती हूँ। मैं उसकी कहानी हर किसी को बता सकती हूँ। मैं कागज के सारस बना सकती हूँ। और दूसरों को ऐसा करने के लिए सिखा सकती हूँ। क्रोध, दर्द, हताशा युद्ध में व्यक्त करना बहुत आसान है। कागज़ के सारस बनाने के लिए धैर्य लगता है। अगर मैं कागज़ के सारस बना सकती हूँ, तो मेरी इच्छा पूरी होगी। आप इसे अंधविश्वास या विश्वास या आशावाद कह सकते हैं।

कई लोग कहेंगे कि सादाको की इच्छा पूरी नहीं हुई। मैं ऐसा नहीं मानती।

यह सच हैं की सादाको अब हमारे साथ नहीं रहीं। हालांकि, उसकी रूह हमारे बीच है। कागज़ के सारस भेजनेवाले दुनिया भर के बच्चे उसकी कहानी जीवित रखते हैं। वे कागज़ के सारस शांति, आशा, प्रेरणा और कृतज्ञता के संदेशों से भरे हुए हैं। सादाको शांति के विचारों में जीवित है और वह विचार कागज़ के सारसों में बदल जाते हैं।

ओरिगामी कला का एक रूप है जिसके माध्यम से हम जापान की लोककथा और सादाको की कथा से जुड़ सकते हैं। पर्याप्त एकाग्रता के साथ, हम सब एक अच्छा खाँसा कागज का सारस बना सकते हैं। हालांकि, अगर हम इसे बनाने के दौरान सादाको के बारे में सोचते हैं, तो हम इसमें शायद अधिक ऊर्जा डालेंगे।

मैं आपको एक यू ट्यूब वीडियो का पता दे रही हूँ, जो आपको बताता है कि कागज़ का सारस कैसे बनाते हैं। आप अपने सारस के छायाचित्र मेरे साथ साझा कर सकते हैं।

https://www.youtube.com/watch?v=YSTjk8ElGhQ

—————————————————————————————————————————————-

原文:英語

平和のメッセンジャー

それは普段の学校の日で、物事はいつものように進んでいました。2017年8月6日。読書の授業がありました。授業のテーマはヒロシマの日について。学生だった頃に第二次世界大戦について学んだ記憶がよみがえりました。原子核分裂とその連鎖反応のこと、アルバート・アインシュタインのこと、ロバート・オッペンハイマーのこと。ロバート・オッペンハイマーはバガヴァット・ギーター(ヒンドゥー教の叙事詩)の韻文を引用し、核爆発のことを書き表した、ということも。第二次世界大戦は私が生まれるずっと前に起きたことです。私の人生には何の影響も及ぼしていません。少なくとも私はそう思っています。その日の授業では、みんなでヒロシマの物語を読み始めました。読み進みながら、ヒロシマや第二次世界大戦について自分が目にしてきたこと、読み、聴き、考えたたくさんのことが脳裏に浮かんできました。そして、佐々木禎子さんのことを知りました。

日本には折り鶴の言い伝えがあります。1000羽のツルを折れば願い事が叶う、と信じられています。佐々木禎子さんは原爆の影響を受け、白血病を患いました。元気になって、普通の人のように人生を送りたい。その願いを叶えるため彼女はツルをおりはじめました。彼女の手元にやってきた紙はつぎつぎにツルへと姿を変えていきました。紙がなかなか手に入れにくい時代のこと、友人たちは一枚でも多くの紙を彼女へ届けようとしました。禎子さんが1000羽のツルをおれたのかどうかについては様々な説があるそうです。確かなのは、彼女の願いは叶うことなく、この世界を若くして後にした、ということ。禎子さんを想った友人たちは、1000羽のツルを彼女に手向けました。

そして、禎子さんのことを忘れないよう資金を募りました。禎子さんの思いを宿した像が広島の平和記念公園で金色のツルを掲げ、平和の価値を伝えています。その足元にはこう刻まれています。「これは私たちの涙。そして祈り。世界に平和を」。毎年、ヒロシマの日には何千羽ものツルが禎子さんの元へ寄せられます。

2つの世界大戦について議論になると、武器、戦略、攻撃、死についてしょっちゅう語られます。誰も戦争を望んでなんかいないのに。

禎子さんは平和を守るために何ができるのかを私に教えてくれました。彼女の話を誰かに伝えること。ツルをおること。おり方を教えること。戦争での怒りや痛み、不平不満を表すのは全く難しいことではありません。でもツルをおるのには忍耐力が必要です。ツルをおり切ったら、願いが叶う。これを迷信とみなすか、信仰とするのか、信じたがりと考えるのか、それはあなたの自由です。

多くの人はこういうでしょう。彼女の願いは叶わなかったじゃないか。

私はそう思っていません。

禎子さんはもうこの世界にいません。でも彼女は私たちの中に生きています。世界中の子どもたちがツルをおり、彼女のもとへ届け、想いを繋いでいます。こうして生まれたツルたちは平和と希望と激励と感謝の気持ちをその翼に乗せています。ツルに姿を変えた願いとなって、禎子さんは生き続けています。

折り紙というアートを仲だちに、私たちは日本の物語や禎子さんへコネクトできます。集中すれば誰でも折り鶴をつくれます。手を動かしながら禎子さんのことに思いを馳せたら、その1羽にはよりエネルギーが宿るかもしれませんね。

折り鶴の作り方を教えてくれるYou tubeの動画のリンクを記しますね。あなたがおったツルの写真を私に見せてください。

Advertisements

One Reply to “Messenger of peace/शांतिदूत/शांति के दूत”

  1. AMRUTA …YOU HAVE GIVEN US ALL HOPE! I WILL MAKE A PAPER CRANE AND SPREAD THE MESSAGE OF PEACE! AND YOUR STORY!!
    IT IS THE ONLY HOPE WE HAVE!

    Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s