Unexpected: The Real Joys of Life/बिन बताए: जिंदगी की असली खुशियाँ/अनपेक्षित: आयुष्यातील खरा आनंद

Original thought: English

The real joys of our life came to us unannounced. These moments stay with us forever. Maybe I am making too general statement. In my defence, I believe in this thoroughly.

I am going to share some such experiences with you today.

I work with a school to help a child with special needs. I go to that school every day. Most children consider me to be a normal teacher. One day, I was feeling particularly low and was lost in my thoughts. One of the other special child from the school came up to me and asked me come down as if she was going to tell me a secret. Instead she kissed my cheek and told me she loved the earrings I was wearing. I came out of my reverie and was touched by the gesture and honesty.

During my collage days, I would commute to and fro by train. I would get a seat while going but while coming back the train would be overflowing with people. Despite the crowd, I would study for the exams, make notes for my project, read something, etc. One morning, I was sitting near a window. There was this playful girl sitting across me with her mother. We started chatting with each other. We discussed where we were going and other things. She saw the books on my lap. I must have looked worried. She asked me about why I looked tense. I told her that I was a bit worried about my projects. We chatted. She told me that even she gets tired when she studies for exams. It was time for me to get down. I told her that and further added that we had to study despite being tired. All of a sudden, she told me that I didn’t need to study if I was tired. She told me, “Don’t worry. Just take a break.” She waved at me from the window with a smile on her face. It occurred to me that I had forgotten that I could take a break. The realization itself gave me immense amount of power.

It was raining cats and dogs in Mumbai. I was waiting outside of the school for an auto-rikshaw driver to agree to go to my place. There was no taxi available even when I would have gladly paid the money. I decided that I had to somehow walk to the nearest metro station. I started walking clutching my bag to my chest and holding my umbrella as steady as I could. A car came and stopped near me. The driver said he would give me a lift to the nearest metro station. There were two other people already sitting inside. I got in the car. He left me near the metro station. Till today, I cannot explain my relief when he offered me a lift.

These are but a few instances. If we start noticing, the humanity shows its true spirit in the most unexpected situations.

I believe that somewhere someone is listening to our hearts’ pleas.

That someone not only listens to us but sends an answer.

Isn’t it wonderful?

—————————————————————————————————————————————–

 

मूल भाव: अंग्रेजी

 

जिंदगी की असली खुशियाँ हमें बिन बताए ही मिल जाती है। ये खुशी के लम्हे हमारे याद में जिंदगी भर रहते है। शायद मेरा ये कहना कुछ ज्यादा ही सर्वसामान्य लग रहा होगा। मेरे पक्ष में मैं इतना ही कहना चाहूँगी कि मैं इसमें पूरा भरौसा रखतीं हुं।

आज मैं आपके साथ ऐसेही कुछ अनुभव बाँटना चाहती हूँ।

मैं एक पाठशाला मैं विशेष जरूरतों वाले बच्चे को मदत करने का काम करती हूँ। मैं हररोज उस पाठशाला में जाती हूँ। बाकी के बच्चें मुझे और अध्यापकों जैसी ही एक सामान्य अध्यापिका समझते हैं। एक दिन मैं अपने आप को कुछ विशेष उदास और अपने ही विचारों में खोया हुआ महसूस कर रही थी। पाठशाला में और भी विशेष जरूरतों वाले बच्चें पढ़ते हैं। उनमें से एक लड़की ने मेरे पास आकर मुझे नीचे झुकने का निर्देश किया जैसे की वो मुझे कोई बहुत खुपिया राज़ बताने वाली हो। जैसे ही मैं नीचे झुकी उसने मेरे गाल को चूमते हुए मुझे कहा की मैंने जो बालियां पहनी थी वो बहुत सुंदर थी। उसके बरताव और सच्चाई ने मुझे ऐसे छू लिया की मैं मेरे ख़याली दुनिया से बहार आ गई।

मेरे कॉलेज के दिनों में मैं कॉलेज आने-जाने के लिए ट्रैन का इस्तेमाल करती थी। मुझे जाते वक़्त तो बैठने के लिए जगह मिल जाती लेकिन घर आते वक़्त ट्रैन में जैसे चीटीं को रेंगने के लिए भी जगह न होती। भीड़ होने के बावजूद, मैं परीक्षा के लिए पढ़ती, प्रोजेक्ट के बारेमें लिखती या किताब पढ़ती। एक सुबह मैं खिड़की की बगल वाली जगह पर बैठी थी। मेरे सामने एक चुलबुली सी लड़की अपनी माँ के साथ बैठी थी। हमनें एक दूसरे से बातें करना शुरू किया। हम कहा जा रहे हैं इसके अलावा और चीजों पे भी बातें हुई। उसने मेरे गोद में पड़ी किताब देखी होगी और शायद मेरे चेहरे पे उसे चिंता दिखाई दी होगी। उसने मुझे पूछा की मैं तनाव में क्यों दिख रही हूँ। मैंने बताया कि मैं मेरे प्रोजेक्ट्स के बारेमें चिंतित थी। हमने और बातें की। उसने मुझे बताया कि जब वो परीक्षा के लिए पढ़ती हैं तो वो भी थक जाती हैं। मेरा उतरने का समय हो गया था। मैंने कहा कि अब मुझे चलना होगा और फिर ये भी कहा कि थकान के बावजूद हमें पढाई तो करनी ही पढ़ती हैं। उसने अचानक से कहा कि अगर मैं थक गयी हूँ तो पढाई करना जरुरी नहीं हैं। उसने आगे कहा, “चिंता छोडो, बस छुट्टी ले लो।” चेहरे पे मुस्कान लिए वो खिड़की से मेरी तरफ देख हाँथ हिलाती रही। मैंने महसूस किया कि मैं छुट्टी ले सकती हूँ यही मैं भूल गई थी। ये जानने का एहसास ही मुझे ढेर सारी ताकत दे गया।

मुंबई में धुँवाधार बारिश हो रही थी। पाठशाला कि ईमारत के बाहर मैं ऐसे किसी रिक्शावाले का इंतज़ार कर रही थी जो मेरे घर जाने के लिए तैयार हो जाए। एक भी टैक्सी नहीं थी जब कि मैं जितने भी होते उतने पैसे ख़ुशी ख़ुशी देने के लिए तैयार थी। मुझे समझा कि कुछ भी कर मुझे पैदल चलके सबसे पास वाले मेट्रो ट्रैन के स्टेशन तक पहुंचना होगा। मैंने अपनी बैग को अपने सिने से कसकर पकड़ा और जितना हो सके उतना छातें को सीधा पकड़ने की कोशिश करते हुए मैंने चलना शुरू किया। फिर एक गाड़ी आकर मेरे पास रुक गई। ड्राइवर ने कहा कि वो मुझे पास वाले मेट्रो ट्रैन स्टेशन तक छोड़ देगा। गाड़ी में और दो लोग पहले से ही बैठे थे। मैं गाड़ी में बैठ गयी। उन्होंने मुझे पास वाले मेट्रो ट्रैन स्टेशन तक छोड़ा। आज तक मैं उस समय महसूस किये हुए सुकून को बयान नहीं कर सकी हूँ, जब उन्होंने मुझे गाड़ी में बैठने के लिए कहा।

ये तो बस कुछ घटनाए हैं। अगर हम गौरसे देखें, तो इंसानियत अपनी असली आत्मा ऐसी जगह दिखा जाती हैं जहाँ आपको बिलकुल भी अपेक्षा न हो।

मुझे विश्वास हैं कि कहीं तो कोई हैं जो हमारे दिल कि आवाज सुनता हैं।

और वो जो कोई भी हैं वो सिर्फ सुनता नहीं, वो जवाब भी भेजता हैं।

हैं न ये अचंभित करने वाला?

—————————————————————————————————————————————–

 

मूळ विचार: इंग्रजी

 

आयुष्यातील खरा आनंद आपल्याला अनपेक्षितरित्या सापडतो. हे क्षण आपल्या आठवणीत आयुष्यभर राहतात. कदाचित मी फारच सर्वसामान्य विधान करत्येय. माझ्या बाजूने बोलायचं झालं तर माझा यावर संपूर्ण विश्वास आहे.

मी आज तुम्हाला असेच काही अनुभव सांगणार आहे.

मी एका शाळेत विशेष गरजा असणाऱ्या एका मुलाला मदत करण्याचा काम करते. मी त्या शाळेत रोज जाते. बरीचशी मुलं मला इतर शिक्षिकांसारखीच एक सामान्य शिक्षिका समजतात. एक दिवस मला फार उदास आणि स्वतःच्याच विचारात हरवून गेल्यासारखं वाटत होतं. या शाळेत इतरही विशेष गरजा असलेली मुलं आहेत. त्यापैकीच एक मुलगी माझ्याजवळ आली आणि तिने मला खाली वाकण्यासाठी खुणावलं जणूकाही ती मला काहीतरी मोठ्ठ गुपित सांगणार होती. मी खाली वाकल्यावर तिने माझ्या गालाचा पापा घेतला आणि मला सांगितलं कि मी घातलेले कानातले खूप सुंदर आहेत. तिच्या त्या वागण्याने आणि खरेपणाने मी इतकी भारावून गेले कि माझ्या विचारांच्या जगातून बाहेर आले.

मी कॉलेज मध्ये असताना मी ट्रेन ने प्रवास करायचे. मला जाताना बसायला जागा मिळायची पण येताना मात्र ट्रेन माणसांनी ओतप्रोत भरलेली असायची. कितीही गर्दी असली तरी मी परीक्षेसाठी अभ्यास करायचे, प्रोजेक्ट साठी काही लिखाण करायचे किंवा पुस्तक वाचायचे. एका सकाळी मी खिडकीच्या बाजूला बसले होते. माझ्या समोर एक खेळकर मुलगी तिच्या आईबरोबर बसली होती. आम्ही एकमेकींशी गप्पा मारायला सुरुवात केली. आम्ही कुठे जाणार आहोत याशिवाय इतर विषयांवरही गप्पा झाल्या. तिने माझ्या माडीवरचं पुस्तक पाहिलं. तिला माझ्या चेहेऱ्यावर काळजी दिसली असावी. तिने मला विचारला कि मी तणावात का दिसत्येय. मी तिला सांगितलं कि मी माझ्या प्रोजेक्ट्स विषयी काळजीत होते. आम्ही अजून गप्पा मारल्या. तिने मला सांगितलं कि जेव्हा ती परीक्षेसाठी अभ्यास करते तेव्हा तीदेखील थकून जाते. आता माझी उतरायची वेळ जवळ आली होती. मी तिला सांगितलं कि आता मला जायला हवं आणि पुढे हेही सांगितलं कि कितीही थकून गेलं तरीही अभ्यास हा करावाच लागतो. तिने मला सांगितलं कि जर मी थकले असेन तर अभ्यास करणं गरजेचं नाहीये. ती पुढे म्हणाली, ” काळजी सोड, सुट्टी घे.” ती खिडकीतून माझ्याकडे पाहत हसत हात हलवत राहिली. मला जाणवलं कि मी सुट्टी घेऊ शकते हेच मी पार विसरून गेले होते. ही जाणीवच मला खूप खूप शक्ति देऊन गेली.

मुंबई पूरपरिस्थिती निर्माण होण्याइतपत पाऊस पडत होता. मी शाळेबाहेर एका अशा रिक्षावाल्याची वाट पाहत होते कि जो माझ्या घराच्या बाजूला जायला तयार होईल. एकही खासगी टॅक्सी उपलब्ध नव्हती नाहीतर मी होतील तितके पैसे द्यायला अगदी आनंदाने तयार होते. मी ठरवलं कि काही करून मला सर्वात जवळच्या मेट्रो स्टेशन पर्यंत चालत जायला हवं. मी माझी बॅग छातीशी कवटाळून आणि छत्री जमेल तितकी सरळ धरत चालायला सुरुवात केली. इतक्यात एक गाडी येऊन माझ्यापाशी थांबली. ड्राइवर ने मला सांगितलं कि ते मला जवळच्या मेट्रो स्टेशन पर्यंत सोडतील. गाडीत आधीच दोन माणसं बसलेली होती. मी गाडीत बसले. त्यांनी मला जवळच्या मेट्रो स्टेशन पर्यंत सोडलं. जेव्हा त्यांनी मला गाडीमधून सोडण्याबद्दल सांगितलं त्या क्षणी मनाला जो दिलासा मिळाला त्याचं वर्णन मी आजही करू शकणार नाही.

ही फक्त काहीच उदाहरणं आहेत. आपण जर नीट लक्ष दिलं तर कळेल कि माणुसकी आपली खरी झलक अगदीच अनपेक्षित परिस्थितीत दाखवून जाते.

माझा विश्वास आहे कि कुठेतरी कोणीतरी आपल्या मनातील प्रार्थना ऐकत असतं.

आणि ते जे कोणी आहे ते केवळ ऐकत नाही तर उत्तरही पाठवतं.

आहे कि नाही आश्चर्यजनक?

—————————————————————————————————————————————–

原文:英語

予期せぬこと:人生の本当の喜び

生きる本当の喜びは、何の前触れもなくやってくる。そういう瞬間は、一生心に残る。もしかしたらあまりにも概説的なことを述べているかもしれません。でも、私は心の底からそう思っているんです。言い訳みたいに聞こえるかもしれないけど。今回みなさんとシェアしたいのは、そういう経験です。

私は特別なニーズをもつ子どもを手助けするために学校で働いています。毎日その学校へ通勤しています。ほとんどの子どもたちは私のことをふつうの先生とみなしています。ある日、私は落ち込んで、物思いにふけっていました。すると、私がふだん担当しているのとは別の子がやってきて、まるで秘密を打ち明けるように、近くへ来て、と言いました。彼女は私の頬にキスをしてくれ、「そのイヤリング、私大好き。」と言いました。その言葉で私は物想いから抜け出しました。そして、彼女の身振りと素直さに感動したのです。

大学時代、私は電車で通学していました。行きは座ることができましたが、帰りは車内に人が溢れかえっていました。混んでいるときも、私は試験勉強をしたり、プロジェクトのメモをとったり、何かを読んだりしていました。ある朝、窓のそばに座っていました。私の対面に元気いっぱいの女の子が母親と座っていて、おしゃべりがはじまりました。どこに行くの、とか、そんなことを。彼女は、私が膝の上に置いていた本に気づきました。そのとき私の表情はくもっていたに違いありません。彼女は、どうしてそんな心配そうな顔をしているの、と私に尋ねました。今取り組んでいるプロジェクトのことが少し心配で、と心の内を伝えました。おしゃべりは続きました。女の子は、試験勉強のときは私も疲れちゃう、と言いました。私が降りる時間になり、どんなに疲れていても勉強をしないと、ね、と言うと、彼女はすぐに、「疲れていたら勉強なんかしなくていいんだよ、心配しないで休みなよ」と言ってくれました。降りると、彼女は窓から笑顔で手を振っていました。この出来事は、自分が休みをとれることさえ忘れていたと気付かせてくれました。そう自覚したこと自体が、ものすごく大きな力となりました。

ムンバイで土砂降りの雨が降っていました。学校の外で、私は家まで乗せて行ってくれるオートリキシャのドライバーと交渉していました。でも、払ってもいい金額を提示してくるドライバーはいませんでした。もう一番近いメトロの駅まで歩いて行っちゃえ、と決めました。バッグを胸に抱え、傘をできる限り固く握りながら歩き始めました。すると車がそばに止まりました。運転手は、近くのメトロの駅まで乗せて行くよと言ってくれました。車内にはすでに2人の人がいて、私は乗り込みました。運転手は駅に降ろしてくれました。乗せて行ってもらえてどれほど助かったか、今でもうまく説明できないくらいです。

今書いたことは、いくつかの例にすぎません。もし私たちが気付き始めたら、人間性は最も予期しない場面でその本当の輝きを見せてくれるのだと思います。どこかで誰かが私たちの心の願いを聞いていてくれているのでしょう。その誰かは聞いているだけではなくて、返事を送ってくれてもいるのです。それって素敵じゃないですか?

Advertisements

One Reply to “Unexpected: The Real Joys of Life/बिन बताए: जिंदगी की असली खुशियाँ/अनपेक्षित: आयुष्यातील खरा आनंद”

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s